निर्भया गैंगरेप मामले के चारों दोषियों को 22 जनवरी की सुबह 7 बजे होगी फांसी ….

0
541

साल 2012  में निर्भया गैंगरेप मामले में दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट ने मंगलवार को चारों दोषियों का डेथ वॉरंट जारी कर दिया गया.

इन चारों को 22 जनवरी की सुबह 7 बजे फांसी पर लटकाया जाएगा. इससे पहले पटियाला हाउस कोर्ट के जज ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए चारों दोषियों से बात की.

जेएनयू में रविवार शाम को हुई हिसां में छात्र घायल, गृह मंत्री के दफ्तर ने किया ट्वीट…

इस दौरान मीडिया को भी अंदर नहीं जाने दिया गया. गौरतलब है कि निर्भया मामले में चारों दोषियों अक्षय, मुकेश, विनय और पवन को पहले ही फांसी की सजा दी जा चुकी है.

16 दिसंबर 2012  की रात दिल्ली की सड़कों पर जिस चलती बस निर्भया नाम की लड़की के साथ गैंगरेप हुआ.  वही बस और उसके अंदर मिले सबूत बाद में जांच के दौरान इस मामले की अहम कड़ी साबित हुए थे. निर्भया कांड के आरोपियों को सजा दिलाने में इस बस की महत्वपूर्ण भूमिका थी.

अमेरिका और ईरान के बीच युद्ध छिड़ा तो पाकिस्तान किसके साथ खड़ा होगा?

आपको बता दें कि 16 दिसंबर 2012 की रात मुनिरका बस स्टैंड के पर निर्भया और उसका दोस्त बस का इंतजार कर रहे थे. तभी सामने से एक बस आती है उसमें से मोहम्मद अफरोज  नाम का नाबालिग आवाज लगाता है, ‘पालम, नजफगढ़, द्वारका’.

लड़की और उसका दोस्त पालम जाने का किराया पूछकर बस में बैठ जाते हैं. बस में ड्राइवर केविन था और ड्राइविंग सीट पर भगवान शिव की मूर्ति लगी थी. बस में मैरून कलर के पर्दे लगे हुए थे.

निर्भया और उसका दोस्त बस में बायीं तरफ कंडक्टर की सीट के पीछे दूसरी पंक्ति की सीट पर बैठे हुए थे. पैसे लेते वक्त एक आरोपी ने निर्भया पर बुरी नजर डाली.

JNU हिसां के बाद छात्रों ने सामूहिक रुप में परीक्षा ना देने का फैसला……

निर्भया के दोस्त ने विरोध किया तो सभी उसे पीटने लगे. निर्भया का दोस्त बस की सीट के नीचे छुप गया. उसके बाद निर्भया के साथ बारी-बारी से सभी आरोपियों ने हैवानियत की.

इस दौरान बस महिपालपुर से यूटर्न होते हुए दिल्ली कैंट के बाद पालम फ्लाईओवर होते हुए फिर यूटर्न लेकर रंगपुरी के रास्ते पर पहुंच गई, जहां महिपालपुर इलाके में लड़की और उसके दोस्त को आरोपियों ने नीचे फेंक दिया.

आरोपियों ने उन दोनों पर बस चढ़ाने की भी कोशिश की. वारदात को अंजाम देने के बाद सभी आरोपी बस लेकर रविदास कैंप पहुंच गए. जहां सभी ने अपने और निर्भया व उसके दोस्त के कपड़े जलाए. बाकी बचे कपड़े जमीन में गाड़ दिए और बस को धो दिया, ताकि कोई सबूत न बचे.

अगर इन खतरनाक बीमारियों से बचना चाहते हैं, तो गलती से भी दूध पीने के बाद ना खाएं ये फूड

Short URL: Generating...

LEAVE A REPLY