जेएनयू में रविवार शाम को हुई हिसां में छात्र घायल, गृह मंत्री के दफ्तर ने किया ट्वीट…

0
416

देश की चर्चित जवाहरलाल नेहरु यूनिवर्सिटी (जेएनयू) में रविवार शाम को नकाबपोशों ने जमकर हिंसा की. जिसमें काफी ज्यादा छात्र घायल हो गए है.

इसमें जेएनयू की प्रेसिडेंट आइशी घोष भी बुरी तरह घायल हो गई है.  जिसके बाद उन्हें एम्स के ट्रामा सेंटर में भर्ती कराया गया. खून से लथपथ उनकी फोटो सहित JNU की बुरी स्थिति सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रही है. JNU का यह खतरनाक मंजर 4 घंटों तक चला.
बताया जा रहा है कि कैंपस में करीब 40-50 लोगों की भीड़ घुसी और अंदर तोड़-फोड़ कर हमला किया.   साथ ही हॉस्टल में घुस कर छात्रों के साथ मारपीट की.  इसके साथ ही जेएनयू और पुलिस प्रशासन पर भी कई सवाल उठ रहे है. जिस कैंपस में घुसने के लिए मीडिया को भी अपने आईडी कार्ड दिखाने पड़ते है वहां इतनी भारी तादाद में नकाबपोशी गुंडे कैसे घुसे ?
इस भयावह स्थिति के बाद छात्रों में डर का माहौल बना हुआ है. इसके कारण कई छात्रों ने कैंपस छोड़ दिया है तो कई इस स्थिति से लड़ने का साहस जुटा कर बैठे है. सभी नकाबपोश लोहे की रॉड लेकर कैंपस में घुसे थे. और उन्होंने रॉड से ही छात्रों सहित प्रोफेसरों पर हमला किया.
वहीं इन सबके बाद कई नेताओं ने अपनी प्रतिक्रिया दी है. केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने जेएनयू हिंसा मामले में कहा है कि हम इसकी निंदा करते हैं, इसकी जांच जरूरी है.
इस बीच गृह मंत्री के दफ्तर ने एक ट्वीट करके बताया कि गृहमंत्री अमित शाह ने दिल्ली के पुलिस कमिश्नर से बात की और JNU स्थिति पर चिंता जाहिर करते हुए ज्वाइंट सीपी लेवल की जाँच कराने की बात कही.
इन सबके बीच पुलिस के आला अधिकारियों ने जेएनयू हिंसा मामले की जांच शुरु कर दी है. और जेएनयू के मेन गेट पर ताला लगा दिया है.

Short URL: Generating...

LEAVE A REPLY